कोरोना संकट से देश को पूरी तरह से उबारने के लिए पीएम मोदी जुटे अब इस काम में…


Prime Minister Narendra Modi to interact with leading economists on Friday

नई दिल्‍ली। Covid-19 महामारी के चलते कई मोर्चों पर अनिश्चितता के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब स्‍वयं नए वित्‍त वर्ष के लिए बजट (Budget 2021) बनाने की तैयारियों में जुट गए हैं। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार को देश के प्रमुख अर्थशास्त्रियों और विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों से उन उपायों पर चर्चा करेंगे, जिन्हें आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए आगामी बजट में शामिल किया जा सकता है।

इस बैठक का आयोजन सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग (Niti Aayog) द्वारा किया जा रहा है और इसमें नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार और नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत भी भाग लेंगे। एक सरकारी अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि प्रधानमंत्री शुक्रवार को अगले बजट पर सलाह लेने के लिए अर्थशास्त्रियों से मिलेंगे। यह बैठक इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के अनुमानों के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार चालू वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत घट सकता है, जबकि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक का अनुमान है कि इसमें क्रमशः 10.3 प्रतिशत और 9.6 प्रतिशत कमी आ सकती है।

भारतीय अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही के दौरान उम्मीद से अधिक तेजी से भरपाई हुई और इस दौरान विनिर्माण क्षेत्र का प्रदर्शन बेहतर रहा। इस कारण उपभोक्ता मांग में सुधार की उम्मीद है। आगामी केंद्रीय बजट एक फरवरी 2021 को पेश किए जाने की संभावना है। 

यह भी पढ़ें: Tata Motors फ्लैगशिप SUV के तौर पर लेकर आ रही है नई Safari, कल लॉन्‍च हुई Toyota Fortuner को देगी टक्‍कर

यह भी पढ़ें: Price Hike: दिल्‍ली में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचे पेट्रोल-डीजल के दाम, एक लीटर के लिए देने होंगे अब इतने रुपये

यह भी पढ़ें: 21 यूनिकॉर्न और 29 सूनिकॉर्न का घर है भारत, जानिए इनके बारे में

यह भी पढ़ें:  छोटे निवेश के साथ आपको लखपति बना देगी ये स्‍कीम, मिलते हैं बहुत सारे फायदे

भारतपे अगले दो साल में जुटाएगी 5,000 करोड़ रुपये

वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी भारतपे ने बुधवार को कहा कि वह अपने उधारी कारोबार को बढ़ाने के लिए अगले दो साल में ऋण वित्त पोषण के जरिए 5,000 करोड़ रुपये जुटाएगी। कंपनी ने बताया कि इसके अलावा उसने एक वेंचर ऋण फर्म इनोवेन कैपिटल से 60 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

कंपनी ने बताया कि भारतपे अपने उधारी कारोबार को बढ़ाने पर काम कर रही है, और ऐसे में हमारे लिए संस्थागत ऋण हासिल करना महत्वपूर्ण है। हमारी योजना अगले दो वर्षों में ऋण वित्त पोषण के जरिए 50-70 करोड़ डॉलर (3,600 करोड़ रुपये से 5,118 करोड़ रुपये) जुटाने की है। भारतपे समूह के अध्यक्ष सुहैल समीर ने एक बयान में कहा कि हमें खुशी है कि इनोवेन कैपिटल इस यात्रा में हमारा पहला मददगार है। हम मजबूत संबंध बनाने के लिए इनोवेन के साथ मिलकर काम करने को तैयार हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *