चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो).

बीजिंग:

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने रविवार को अधिकारियों को निर्देश दिया कि देश के दक्षिण पश्चिम सिचुआन प्रांत को तिब्बत में लिन्झी तक जोड़ने वाली 47.8 अरब डॉलर की रेल परियोजना के निर्माण में तेजी लाएं और कहा कि यह सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थिरता की रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा. लिन्झी, अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के नजदीक है.

यह भी पढ़ें

चीन की सरकारी मीडिया के मुताबिक, सिचुआन-तिब्बत रेलवे, छिनघाई-तिब्बत रेल परियोजना के बाद दूसरी रेलवे लाइन है. यह छिनघाई-तिब्बत पठार के दक्षिण पूर्व से गुजरेगा. सिचुआन-तिब्बत रेलवे चेंगदू से प्रारंभ होता है, जो सिचुआन प्रांत की राजधानी है और यान तथा कामदो होते हुए तिब्बत में प्रवेश करता है जिससे चेंगदु से ल्हासा के बीच की दूरी 48 घंटे से कम होकर 13 घंटे रह जाती है.

यह भी पढ़ें:लद्दाख गतिरोध के बीच भारत-चीन की बैठक रही बेनतीजा, अगले दौर की मुलाकात जल्द

लिन्झी को न्यींगची के नाम से भी जाना जाता है और यह अरुणाचल प्रदेश की सीमा के पास स्थित है. लिन्झी में एक हवाई अड्डा भी है, जो चीन द्वारा हिमालयी क्षेत्र में बनाए गए पांच हवाई अड्डों में से एक है. सरकारी ‘ग्लोबल टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, यान- लिन्झी मार्ग 1,011 किलोमीटर लंबा है, जिसमें 26 स्टेशन पड़ते हैं. इस मार्ग पर रेलगाड़ियां 120 से 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती हैं.  पूरे सिचुआन-तिब्बत रेल परियोजना की लागत 47.8 अरब डॉलर है.

परियोजना के निर्माण से पहले शी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में इसे नये युग में तिब्बत के प्रशासन में कम्युनिस्ट पार्टी की योजना का अहम हिस्सा बताया और राष्ट्रीय एकता की सुरक्षा, जातीय एकजुटता को बढ़ावा देने और सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थिरता को मजबूत करने में परियोजना की अहम भूमिका पर जोर दिया.

सरकारी शिन्हुआ संवाद समिति ने खबर दी कि सिचुआन-तिब्बत रेलवे के यान-न्यींगची सेक्शन पर निर्माण कार्य की शुरुआत से पहले उन्होंने ये निर्देश दिए.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here