प्रयागराज6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

घायल लड़के का इलाज एसआरएन अस्पताल में चल रहा है। ऑपरेशन के बाद गोली निकाल दी गई है। अब उसकी हालत खतरे से बाहर है।

  • लड़की के पिता आजमगढ़ में इंस्पेक्टर हैं, उनकी लाइसेंसी बंदूक से गोली मारी गई
  • लड़की ने लूट की कहानी को सच साबित करने के लिए गहने चुराकर छिपा दिए थे

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में मंगलवार को 17 साल की लड़की ने अपने छोटे भाई को गोली मार दी। घटना के बाद लड़की ने ही शोर मचाकर लोगों को बुलाया और घर में लूट की कहानी बनाई। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की, तो पता चला कि आपसी झगड़े से तंग आकर लड़की ने ही अपने भाई को गोली मारी थी।

घटना प्रयागराज के यमुनापार इलाके में रहने वाले पुलिस इंस्पेक्टर के घर की है। मंगलवार को घर में फायरिंग की आवाज सुनकर लड़की की मां और दूसरी मंजिल पर रहने वाली किराएदार मौके पर पहुंची थीं। उस समय 11वीं क्लास में पढ़ने वाला लड़का खून से लथपथ जमीन पर पड़ा था। पुलिस ने बताया कि लड़के को 3 गोलियां मारी गई थीं, जो उसके पेट और सीने में लगी थीं।

मौके पर पड़ताल करती पुलिस।

मौके पर पड़ताल करती पुलिस।

लड़की ने गढ़ी लूट की कहानी

घायल लड़के को अस्पताल भेजने के बाद पुलिस ने लड़की से पूछताछ की। लड़की ने बताया कि बाइक से आए तीन लोग बाउंड्री फांदकर घर के भीतर आए और उसे पीटना शुरू कर दिया। भाई बचाने आया, तो उसे गोलियां मारकर भाग गए। लड़की ने कहा कि हमला करने वालों ने चेहरे पर मास्क लगाया था, इसलिए वह उन्हें पहचान नहीं सकी। उसने गहने चोरी होने की बात भी कही। इधर, लड़के ने बयान दिया था कि वह जब सो रहा था, तब उस पर गोली चलाई गई थी।

अपनी बीमार मां के साथ आरोपी।

अपनी बीमार मां के साथ आरोपी।

45 मिनट में हुआ झूठ का पर्दाफाश

पुलिस को पड़ताल में किसी के जबरन घर में घुसने के सबूत नहीं मिले। घर के पास लगे सीसीटीवी फुटेज में भी उसके बताए हुलिए वाला कोई शख्स नहीं दिखा। पुलिस ने किचन में छिपाकर रखे गए गहने भी बरामद कर लिए। इसके बाद लड़की ने पिता की लाइसेंसी पिस्टल से भाई को गोली मारने की बात कबूल कर ली। उसने बताया कि भाई के साथ उसका झगड़ा होता था, इसीलिए उसने भाई को गोली मार दी। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here