जानिए सिगरेट का धुआं उड़ाते हुए चाय पीने के पीछे की वजह, क्या विज्ञान समर्थन करता है?


चाय और सिगरेट एक मिश्रण है जो अजीब तरह से काम करता है. इसलिए अक्सर आपने धूम्रपान करनेवालों को चाय के साथ सिगरेट पीते हुए देखा होगा. चाय और सिगरेट दोनों में निकोटीन की मौजूदगी ही सिर्फ समान नहीं है, बल्कि दोनों शांत और आराम के उत्प्रेरक का काम करते हैं. जिसकी वजह से लोग धुआं और चाय पीने का आनंद उठाते हैं. आपको जानना चाहिए आखिर क्या वजह है कि चाय का सेवन सिगरेट के साथ किया जाता है.

निकोटीन और ब्लड शुगर लेवल- सिगरेट में निकोटीन होता है. धूम्रपान कार्सिनोजेनिक रोग जैसे मुंह का सैंसर की वजह बन सकता है. धुआं छोड़ने पर निकोटीन शरीर में दाखिल होता है और रक्तप्रवाह में फैल जाता है. निकोटीन ब्लड शुगर लेवल में अस्थिरता की वजह बनता है क्योंकि ये ब्लड से ग्लूकोज का उपयोग करने के लिए कोशिकाओं की क्षमता को प्रभावित करता है. इसकी वजह से अचानक चक्कर आ सकता है.

निकोटीन शरीर के एंटी-ऑक्सीडेंट को कम कर सकता है और ऑक्सीडेटिव तनाव का कारण बनता है. चाय एक बेहतरीन एंटी-ऑक्सीडेंट है जो किफायती है आसानी से मिल जाती है. दिमाग को जवान और सक्रिय करने के लिए लोग चाय पीने का सहारा लेते हैं जो ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करती है और दिमाग की सक्रियता भी बहाल करती है.

प्रयोग से साबित किया जा चुका है कि ग्रीन टी का ब्लैक टी के मुकाबले धूम्रपान करनेवालों पर ज्यादा प्रभाव होती है. मेडिकल रिसर्च से ये भी खुलासा हुआ है कि ग्रीन टी और ब्लैक टी धूम्रपान करनेवालों में कार्सिनोजेन से प्रेरित कोशिका परिवर्तन को रोकती है.

सिगरेट के साथ चाय पीने के फायदे- निकोटीन लार के प्रवाह को कम करता है और शुष्क मुंह के लक्षण की वजह बनता है. ग्रीन टी या ब्लैक टी ऐसे तरल हैं जो मुंह के सूखेपन को घटा सकते हैं. गर्म चाय सिगरेट के धुएं की वजह से गले में जलन को शांत करती है. चाय किफायती होती है और तनाव के लिए सुखदायक एजेंट के रूप में काम करती है. अमेरिकन एसोसिएशन फोर कैंसर रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक ग्रीन टी लंग कैंसर के खतरे को कम कर सकती है.

एक रिसर्च में बताया गया है कि ग्रीन टी पीना और धूम्रपान करने से लोगों में चिंता कम हुई क्योंकि ये न्यूरोट्रांसमीटर रिसेप्टर के साथ हस्तक्षेप करता है. उसमें पाया जानेवाला एल-थियेनाइन नाम का एक एमिनो एसिड चिंता कम करने में मदद करता है. एल-थियेनाइन स्मरण शक्ति, ध्यान और एकाग्रता बढ़ाने में भी मदद करता है. ग्रीन टी शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाती है और फैट को घुलाती है, जिसकी वजह से वजन में कमी होती है.

सर्दी में मूली खाने के फायदे हैं अनगिनत लेकिन इसके नुकसान से भी रहें सावधान

Weight Loss: क्या ठंडा पानी पीने से आपका वजन बढ़ता है? जानिए मान्यता के पीछे की सच्चाई

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *